जन्माष्टमी का व्रत रखने जा रहे हैं तो ज़रूर जान लें ये महत्वपूर्ण बातें

-

 

भगवान ने इस सृष्टि को बनाया हैं। वे ही रचयिता, पालनहार एवं संहार कर्त्ता हैं। धरती पर जब-जब असुरों का अत्याचार बढ़ता हैं, धर्म का नाश होता हैं तब-तब सत्य और धर्म की स्थापना के लिए भगवान धरती पर अवतार लेते हैं। ऐसे में जब मथुरा नरेश कंश का अत्याचार काफी बढ़ गया था, प्रजा परेशान हो गई थी, तब भादों की कृष्ण पक्ष में आने वाली अष्टमी की मध्यरात्रि को भगवान कृष्ण ने मथुरा में अवतार लिया था, इसलिए इस दिन को श्री कृष्ण जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता हैं। इस दिन स्त्री हो या पुरुष, सभी उपवास करते हैं। मंदिरों को खूब सजाया जाता हैं। भगवान श्री कृष्ण की पूजा की जाती हैं और उन्हें झूला झुलाया जाता हैं। इस दिन चारों ओर उत्सव का माहौल रहता है। इस दौरान व्रत करने के कुछ नियम भी होते हैं तो चलिए जानते हैं इस दौरान ध्यान देने वाली कुछ जरूरी बातों को…

यह भी पढ़ें – व्रत में खाएं स्वादिष्ट मेवे व खीरे की खीर

व्रत करने के नियम –

1. श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन लोग उपवास रखते हैं। आपको बता दे कि इस व्रत से पहले की रात को आप हल्का भोजन ही करें और ब्रह्मचर्य का ही पूर्ण रूप से पालन करें। बच्चे या बीमार स्त्रियां इस दौरान सुबह होने से पहले थोड़ा भोजन कर सकती हैं।
2. उपवास के दिन सुबह में नित्य क्रिया कर्म को कर लें ।
3. इसके बाद सभी देवी-देवताओं को नमस्कार कर पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके बैठ जाएं।

keep-these-thingas-in-mind-before-having-fast-on-janmashtami21 

यह भी पढ़ें – श्री कृष्ण जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर बनाएं गोंद की बर्फी

4. इसके बाद जल, मिठाई, कुश, धूप को लेकर इन मंत्रों के साथ संकल्प करें।

“ममखिलपापप्रशमनपूर्वक सर्वाभीष्ट सिद्धये
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी व्रतमहं करिष्ये॥“

5. शाम के समय जल में काले तिल डालकर स्नान करें एवं देवकी जी के लिए सूतीकागृह बनाएं।
6. इसके बाद भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति या चित्र को वहां स्थापित करें।

keep-these-things-in-mind-before-having-fast-on-janmashtami31

यह भी पढ़ें – जन्माष्टमी पर जानें श्री कृष्ण से जुड़े 11अनोखे और अनजाने रहस्य

7. देवकी जी का चित्र उपलब्ध हो तो बहुत अच्छी बात हैं अन्यथा उन्हें याद करते हुए बड़े भाव से उनके चरण स्पर्श करें।

8. हो सके तो रात को मंदिर जाएं, नहीं तो घर पर ही विधि विधान से पूजन करें। पूजा करते समय क्रमानुसार देवकी, वसुदेव, बलदेव, नंद, यशोदा का नाम लें।

keep-these-things-in-mind-before-having-fast-on-janmashtami11

9. इन मंत्रों का जाप करें और पुष्पांजलि अर्पित करें।

‘प्रणमे देव जननी त्वया जातस्तु वामनः।
वसुदेवात तथा कृष्णो नमस्तुभ्यं नमो नमः।
सुपुत्रार्घ्यं प्रदत्तं में गृहाणेमं नमोऽस्तुते।’

10. अंत में प्रसाद वितरण करें और स्वयं प्रसाद ग्रहण करें। हो सके तो रात भर जागते हुए भजन- कीर्तन करें।

यह भी पढ़ें – इस जन्माष्टमी कान्हा को प्रसन्न करें स्वादिष्ट मावा लड्डू के साथ

Share this article

Recent posts

पितृपक्ष में करेंगे ये काम तो आशीर्वाद बनकर बरसेगी पितरों की कृपा

हिन्दू धर्म में पितृपक्ष का बड़ा महत्त्व है, इस अवधि में लोग अपने पितरों और पूर्वजों का तर्पण कराते हैं और जो ये नहीं...

कहीं आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता या इम्युनिटी कमज़ोर तो नहीं? ऐसे पता करें

इम्यूनिटी मतलब शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता जो हमें टॉक्सिन्स से लड़ने की क्षमता प्रदान करती है। ये टॉक्सिन्स वायरस, बैक्टीरिया, फंगस, पैरासाइट या...

7 लाजवाब रोमांटिक टिप्स जो इन बारिशों में आपको महका देंगे, आज़मा कर देख लीजिए !

बारिश और रोमांस का एक अजीब अनकहा सा नाता है जो शायद कह कर न बताया जा सके पर वक़्त पर महसूस रूह तक...

19 आकर्षक मेंहदी डिजाइन जो आपकी खूबसूरती में चार-चाँद लगा देंगे

मेंहदी हमेशा से ही महिलाओं के दिलों में एक ख़ास जगह रखती है और किसी तीज-त्योहार में तो इसके लिए होड़ लग जाती है...

इस स्वतंत्रता दिवस पर ज़रूर याद करें देश के लिए इन वीरांगनाओं का अमूल्य योगदान

इस 15 अगस्त 2020 को हम अपने देश के स्वतंत्रता की 73वीं साल गिराह मनाने जा रहें हैं। वैसे वर्तमान समय और परिस्थितियों को...

Popular categories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent comments