मानसून के मौसम में बारिश होती ही है। इस मौसम में होने वाली बारिश से बहुत से घरों में सीलन की समस्या भी आ जाती है। इस समस्या के दीवारों का पेंट निकलने लगता है या दीवारों से बदबू आने लगती हैं। सीलन घर की दीवारों को बहुत हानि पहुंचा सकती हैं। सीलन की यह समस्या कई प्रकार से आपके घर में पैदा हो सकती है जैसे घर निर्माण के समय अच्छे प्रोडक्ट का यूज न करना, छत पर पानी ढलान की अच्छी व्यवस्था न होना। लीक करता हुआ पानी का पाइप तथा बारिश का जल भी सीलन का कारण बन जाती है। आज हम आपको इस समस्या से निपटने के लिए कुछ उपयोगी टिप्स यहां बता रहें हैं। जो आपके घर में सीलन लाने बाले सभी कारणों को ख़त्म करेगी।

1 – अपने घर को बनाएं सीलनप्रूफ

अपने घर को बनाएं सीलनप्रूफImage source:

आप जा भी अपने घर का निर्माण कराएं तो खिड़कियों को फ्रेम बंद बनाएं। इसके अलावा घर की बनावट कुछ ऐसी हो की बारिश का पानी आपके घर में कहीं भी जमा न हो बल्कि निकलता रहे। यदि आपकी छत टपक रही हो तो आप उसको तुरंत रिपेयर अवश्य कराएं। वाश रूम या रसोई की भाप को वहां की दीवारें ही सोख लेती हैं। इस समस्या से बचने के लिए आप वैंटिलेशन का यूज करें। घर की बाहरी दीवारों को वाटरप्रूफ कोट्स कराएं ताकी आप सीपेज की समस्या से बच सकें। यदि दीवारों के नीचले हिस्से से सीलन बढ़ रही है तो आप दीवारों पर डैंपप्रूफ कोर्स को कराएं। डैंपप्रूफ कोर्स अंडरग्राउंड वाटर को ऊपर आने से रोकता है।

यह भी पढ़ें – बरसात के दिनों में कपड़ों से आती है सीलन की बदबू तो यूं करें दूर

2 – किचन में करें बदलाव

किचन में करें बदलावImage source:

चावल, दाल या चीनी जैसी रोजमर्रा के काम आने वाली चीजें आप कांच के कंटेनर्स अथवा ट्रांसपेरैंट प्लास्टिक बॉक्स में ही रखें। कॉफी, चाय की पत्ती जैसी चीजों को आप नमी से बचाना चाहती हैं तो छोटे कांच के जार में ही रखें। आचार को रखने के लिए आप चीनी मिट्टी के बर्तन या कांच के जार का ही यूज करें। कुछ समय इनको खोल कर धूप में भी रखें। आटा आदि चीजें रखने के लिए आप स्टील कंटेनर्स का यूज करें लेकिन इनकी सफाई पर भी ध्यान दें।